ROM क्या है – Meaning of ROM in Hindi

क्या आप जानना चाहते हैं कि ROM क्या है?

अगर आपका जवाब हां है तो आप बिल्कुल सही लेख पढ़ रहे हैं.

आज के इस लेख में हम आपको Meaning of ROM in Hindi तो बताएंगे ही लेकिन साथ ही साथ हम अपको Types of ROM भी विस्तार में बताएंगे.

यह तो सभी जानते हैं कि ROM की फुल फॉर्म Read Only Memory है, लेकिन यह है क्या? तो चलिए आपका समय बरबाद ना करते हुए हम अपको बताते हैं कि ROM क्या है.

अगर आप कंप्यूटर के साथ साथ RAM और ROM में अंतर जानना चाहते हैं तो आप हमारे नीचे दिए गए लेख को पढ़िए.

ROM क्या है – Meaning of ROM in Hindi

ROM Kya Hai Meaning of ROM in Hindi

ROM Definition in Hindi: ROM का पूरा नाम Read Only Memory है, यह एक ऐसी मेमोरी है जोकि जानकारी को permanently स्टोर रखती है. इसे Non-Volatile Memory भी कहा जाता है, क्यूंकि इसमें स्टोर डाटा power बंद होने के बाद भी नहीं मिटता.

क्यूंकि इस मेमोरी को Read Only Memory कहा जाता है, इसलिए हम इसमें स्टोर डाटा और प्रोग्राम्स को सिर्फ पढ़ सकते हैं, पर उन पर लिख नहीं सकते.

प्राइमरी मेमोरी के दो भाग होते हैं, जिनमें से ROM एक है, इसका दूसरा भाग RAM है.

अगर आप RAM के बारे में विस्तार में जानना चाहते हैं तो आप नीचे दिए गए लेख को पढ़िए.

रोम को बनाने वाले रोम को बनाते समय उसमें Programmes डाल देते हैं, जिन्हें आप बाद में reprogram या rewrite नहीं कर सकते.

ROM में कंप्यूटर को दिए जाने वाले बेसिक दिशा निर्देश होते हैं, जैसे कि कंप्यूटर को चालू करना (Booting), कंप्यूटर को बताना के उसके साथ दूसरे hardwares (माउस, कीबोर्ड) connected हैं आदि.

रोम का इस्तेमाल कंप्यूटर, Microwaves, Smartphones, TV, AC, Tablets आदि electronic devices में होता है.

रोम में खास internal electronic fuses होते है, जिन्हें किसी interconnection pattern(जानकारी) के लिए प्रोग्राम किया जा सकता है.

बाइनरी जानकारी जोकि कंप्यूटर को उसके मूल कार्यों के बारे में बताती है, यह जानकारी रोम की chips में उसको बनाने वाले के द्वारा डाली जाती है और बाद में रोम को electronic device के साथ जोड़ दिया जाता है ताकि जरूरी interconnection pattern को स्थापित किया जा सके.

जब Pattern (जानकारी) स्थापित हो जाता है, तब यह जानकारी कंप्यूटर को बंद करने के बाद भी उसमें स्टोर रहती है, इसलिए रोम को non-volatile memory कहते हैं क्यूंकि ROM कंप्यूटर बंद होने के बाद भी जानकारी को स्टोर करके रखती है.

हम आशा करते हैं कि आप अभी तक ROM Meaning in Hindi अच्छे से जान चुके होंगे.

आप Computer Memory के बारे में जानने के साथ RAM और ROM में अंतर, Secondary Memory और Primary Memory में अंतर जानने के लिए नीचे दिए गए लेख को पढ़ सकते हैं.

Advantages of ROM in Hindi

  • ROM को non-volatile memory कहा जाता है, क्यूंकि इसमें स्टोर डाटा permanently स्टोर रहता है.
  • ROM में स्टोर डाटा कंप्यूटर की बंद करने के बाद भी नहीं मिटता.
  • ROM, RAM की तुलना में सस्ती होती है.
  • क्यूंकि यह स्थिर मेमोरी है इसलिए इसे बार बार refresh करने की जरूरत नहीं पड़ती.
  • ROM में उन दिशा निर्देशों को स्टोर किया जाता है, जोकि कंप्यूटर को उसके मूल कार्य करवाते हैं.

Disadvantages of ROM in Hindi

  • ROM में स्टोर डाटा रोम को बनाने वाले के द्वारा ही डाला जाता है, जिसे हम वापिस नहीं लिख सकते.
  • क्यूंकि रोम Read Only Memory है इसलिए हम इसके डाटा को सिर्फ पढ़ सकते हैं, rewrite नहीं कर सकते.

ROM के प्रकार – Types of ROM in Hindi

ROM को चार भागों में बांट जाता है, जोकि नीचे दिए गए हैं:

  • MROM (Masked Read Only Memory)
  • PROM  (Programmable Read Only Memory)
  • EPROM (Erasable and Programmable Read Only Memory)
  • EEPROM (Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory)
  • Flash ROM (Flash Read Only Memory)

यह हैं रोम की types, तो चलिए अब हम आपको इन types के बारे में विस्तार में बताते हैं.

#1 MROM क्या है?

MROM Kya Hai Meaning of MROM in Hindi

Meaning of MROM in Hindi: MROM का पूरा नाम Masked Read Only Memory है. यह ROM की सबसे पुरानी किस्म है, जोकि आज के ज़माने में बेकार हो गई है क्यूंकि अभी इसका कहीं भी इस्तेमाल नहीं होता.

MROM एक हार्डवेयर मेमोरी device है, जिसमें programmes और हदायतों को इसे बनाते समय manufacturer के द्वारा इसमें स्टोर किया जाता है.

MROM को बनाते वक़्त ही बनाने वाले के द्वारा प्रोग्राम कर दिया जाता है, इसे बाद में reprogramme, modify या मिटाया नहीं जा सकता.

MROM चिप्स, inegrated सर्किट्स के साथ बनी होती हैं. चिप्स के द्वारा करंट इनपुट आउपुट के रास्ते भेजा जाता है, जोकि fuses की जगह के द्वारा बताया जाता है यह जगह चिप के ऊपर rows और columns के बीच में होती है.

करंट को fuse-enabled रास्ते से गुजरना होता है, इसलिए यह केवल उसी आउटपुट के जरिए वापस आ सकता है, जिसे manufacturer चुनता है. यही कारण है कि MROM में rewriting और किसी प्रकार की modification करना impossible है.

Advantages of MROM in Hindi

  • MROM को बनाने की Cost बहुत कम है, हालांकि IC की cost इसके bit के size पर निर्भर करती है.
  • MROM क्यूंकि छोटा है इसलिए इसे उठाकर लेकर जाना आसान है.
  • MROM बाकी सभी seocndary memories से सस्ती है.

Disadvantages of MROM in Hindi

  • अगर MROM की programming में कोई error मिल जाए तो यह बेकार हो जाती है, इसे replace करना पड़ता है, क्यूंकि इस reprogramme नहीं किया जा सकता.
  • इसमें Programmes को निर्माता द्वारा है लिखा जाता है, जिसे हम बाद में reprogramme नहीं कर सकते.
  • MROM जल्दी खराब हो जाती है, इसलिए इसे जल्दी बदलना पड़ता है.

#2 PROM क्या है?

PROM Kya Hai Meaning of PROM in Hindi

Meaning of PROM in Hindi: PROM का पूरा नाम Programmable Read Only Memory है. यह ROM का एक खाली version होता है.

इसे एक खाली रोम मेमोरी के तौर पर त्यार किया जाता है, जिसे आप खरीदने के बाद अपने हिसाब से programmer टूल का इस्तेमाल करके प्रोग्राम कर सकते हैं.

चिप में करंट सभी संभावित रास्तों से गुजरता है. Programmer उन fuses को जोकि जरूरी नहीं है उनको ज्यादा वोल्टेज भेजकर जलाकर करंट के लिए कोई एक रास्ता चुन सकता है.

User के पास PROM को अपनी जरूरत के हिसाब से प्रोग्राम करने और इसमें डाटा और instructions को add करने की अनुमति होती है.

क्यूंकि यूजर PROM को प्रोग्राम कर सकता है, इसलिए PROM को User-Programmed ROM भी कहा जाता है.

PROM की चिप पर डाटा लिखने के लिए एक device का इस्तेमाल किया जाता है, जिसे PROM Programmer या PROM Burner कहा जाता है.

PROM को प्रोग्राम करने के काम को PROM को burn करना कहते हैं.

अगर आपने एक बार PROM को प्रोग्राम के दिया आप फिर वापिस डाटा को modify नहीं कर सकते, इसलिए PROM को one-time programmable device भी कहते हैं.

PROM का इस्तेमाल smartphones, video game के consoles, मेडिकल उपकरणों आदि में किया जाता है.

Advantages of PROM in Hindi

  • PROM की प्रोग्रामिंग कई प्रकार के सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल करके की जा सकती है.
  • PROM में एक बार डाटा स्टोर होने के बाद उसे बदला नहीं जा सकता.
  • PROM को हम अपने हिसाब से programme कर सकते हैं.

Disadvantages of PROM in Hindi

  • PROM में डाटा एक बार स्टोर होने के बाद अगर हमे डाटा में कोई error मिले तो हम उसे ठीक करने के लिए डाटा को reprogramme या erase नहीं कर सकते.

#3 EPROM क्या है?

EPROM Kya Hai Meaning of EPROM in Hindi

Meaning of EPROM in Hindi: EPROM का पूरा नाम Erasable and Programmable Read Only Memory है.

EPROM एक ऐसी टाइप है ROM की जिसमें स्टोर डाटा को कई बार मिटाया और reprogramme किया जा सकता है.

EPROM के डाटा को मिटाने का तरीका काफी अलग है, यह quartz window के साथ आती है जिसके माध्यम से डाटा मिटाने के लिए एक खास frequency पर EPROM में से लगभग 40 मिनट तक ultraviolet (पराबैंगनी) किरणे pass की जाती हैं.

इसलिए, जब तक EPROM पराबैंगनी किरणों के संपर्क में नहीं आती, तब तक इसका डाटा नहीं मिटता.

आपको EPROM को reprogramme करने के लिए PROM programmer या PROM बर्नर की जरूरत पड़ेगी.

EPROM का इस्तेमाल कुछ micro controllers में प्रोग्राम को स्टोर करने के लिए किया जाता है.

Advantages of EPROM in Hindi

  • EPROM non-volatile मेमोरी है, मतलब कि इसमें डाटा कंप्यूटर के बंद होने के बाद भी स्टोर रहता है.
  • इसे मिटाया और reprogramme किया जा सकता है.
  • यह PROM से ज्यादा लाभदायक है.
  • EPROM का डाटा पराबैंगनी किरणों के संपर्क में आने से ही मिटता है.

Disadvantages of EPROM in Hindi

  • EPROM के द्वारा ज्यादा बिजली का इस्तेमाल किया जाता है.
  • EPROM में किसी 1 Byte को मिटाना possible नहीं है, इसमें अगर हम डाटा को मिटाना चाहे तो सारा डाटा ही मिटता है.
  • क्यूंकि EPROM पराबैंगनी किरणों से मिटाई जाती है, इसलिए इसे ज्यादा समय लगता है.

#4 EEPROM क्या है?

EEPROM Kya Hai Meaning of EEPROM in Hindi

Meaning of EEPROM in Hindi: EEPROM का पूरा नाम Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory है.

EEPROM एक ऐसी मेमोरी है जिसके डाटा को लगभग 10 हज़ार बार मिटाया और reprogram किया जा सकता है.

EEPROM को flash memory भी कहा जाता है, क्यूंकि इसमें flash memory की काफी विशेषताएं हैं.

EEPROM को EPROM की तरह मिटाने के लिए पराबैंगनी किरणों की जरूरत नहीं पड़ती.

हम EEPROM को electrically मिटा सकते हैं.

EEPROM का access time 45 से लेकर 200 नैनो सेकंड के बीच है.

इस मेमोरी में डाटा एक बार में सिर्फ एक Byte लिखा या मिटाया जा सकता है.

EEPROM का इस्तेमाल कंप्यूटर में कम डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है.

कंप्यूटर का BIOS (Basic Input/Output System) इस EEPROM में स्टोर होता है.

EEPROM का इस्तेमाल और उपकरणों में भी होता है जैसे कि सर्कट बोर्ड आदि में.

Advantages of EEPROM in Hindi

  • EEPROM में डाटा को मिटाने का तरीका electrical है, जोकि तेज है.
  • EEPROM को 10,000 बार reprogramme और मिटाया जा सकता है.
  • EEPROM में डाटा को byte के रूप में erase किया जा सकता है, हमारी मर्ज़ी के बिना पूरा डाटा erase नहीं होता.
  • EEPROM का access time 45 से 200 सेकंड के बीच है.
  • डाटा को बदलते समय और किसी device की जरूरत नहीं पड़ती.

Disadvantages of EEPROM in Hindi

  • EEPROM दूसरी memories से महंगी होती है.
  • EEPROM डाटा को लगभग दस साल तक स्टोर करके रख सकता है.
  • डेटा को मिटाने, read करने और reprogramme करने के लिए अलग-अलग वोल्टेज की जरूरत होती है.
  • EEPROM में एक समय पर एक byte डाटा को reprogramme और मिटाया जा सकता है, जोकि flash memory से कम है.
  • EEPROM का access time, Flash Memory से कम है.

#5 Flash ROM क्या है?

Flash ROM Kya Hai Meaning of Flash PROM in Hindi

Meaning of Flash ROM in Hindi: Flash ROM का पूरा नाम Flash Read Only Memory है.

यह EEPROM का एक advanced version है.

Flash Memory डाटा को एक arrangement के हिसाब से स्टोर करती है.

यह मेमोरी डाटा को blocks में स्टोर करती है. इस मेमोरी को इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि Flash Memory में आप एक समय पर 512 bytes तक डाटा reprogramme या मिटा सकते हैं.

जबकि EEPROM में जैस कि हमने बताया था, आप एक समय पर सिर्फ 1 Byte डाटा मिटा और write कर सकते हैं.

Flash Memory, EEPROM से तेज़ हैं.

इस मेमोरी को कंप्यूटर से बिना remove किए reprogramme किया जा सकता है.

Flash Memory access time बहुत fast है जोकि 45 से 90 नैनो सेकंड के बीच है.

Flash Memory का इस्तेमाल storage और डाटा को एक कंप्यूटर से दूसरे डिजिटल devices में भेजने के लिए किया जाता है.

Flash Memory का इस्तेमाल Modems, MP3 Players, USB Flash Drives आदि में किया जाता है.

आजकल के काफी आधुनिक computers के BIOS (Basic Input/Output System) को flash memory की चिप पर स्टोर किया जाता है, जिसे Flash BIOS भी कहा जाता है.

Advantages of Flash Memory in Hindi

  • Flash Memory का Access time बहुत ज्यादा है, जोकि 45 से 90 नैनो सेकंड के बीच में है.
  • इसके खराब होने के chances कम होते है.
  • यह डाटा को कंप्यूटर के बंद होने के बाद भी स्टोर रखता है.
  • हम एक समय पर Flash Memory में 512 Bytes डाटा को मिटा और write कर सकते हैं.
  • Flash Memory की स्पीड EEPROM से ज्यादा है.
  • यह ज़्यादा तापमान और pressure झेल सकती है.

Disadvantages of Flash Memory in Hindi

  • Flash Memory हार्ड डिस्क से मंहगी होती है.
  • Flash Memory के Read और writes के नंबर लिमिटेड होते हैं.

आपने आज क्या सीखा

आज के इस लेख में हमने आपको Meaning of ROM in Hindi बताया है जिससे आपको पता चल चूका होगा कि असल में ROM क्या है और हमने Types of ROM को भी विस्तार में बताया है.

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है तो आप इसे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों आदि के साथ शेयर जरूर कीजिए ताकि वे भी ROM के बारे में विस्तार में जान सके.

अगर आपके यहां कोई कंप्यूटर की पढ़ाई करता है तो आप उसके साथ भी यह लेख सांझा कीजिए, क्यूंकि यह उस के लिए काफी मददगार सिद्ध हो सकता है.

Hindi Freaks की Digital Marketers और Developers की टीम है, जिसका नेतृत्व युवराज परमार द्वारा किया जाता है. Hindi Freaks पर हम सारी जानकरी मुफ्त में देते हैं, जिसे आप ग्रहण करके अच्छे Digital Marketer या Developer बन सकते हैं.

Leave a Comment